A-AA+
A-AA+
Select Page

दीर्घोपयोगिता

होम / दीर्घोपयोगिता / दीर्घोपयोगिता

Sustainabilityईआईएल में दीर्घोपयोगिता का तात्पर्य सिर्फ अच्छे कार्य में योगदान अथवा पर्यावरणीय नियमों के अनुपालन तक ही सीमित नहीं है बल्कि अपना व्यवसाय इस तरह संचालित करना है जो सभी हित धारकों के लिए जवाबदेही एवं पारदर्शी हो।

  • कॉर्पोरेट गुणवत्ता और एचएसई नीतियों के अनुसार परियोजना निष्‍पादित करना है जिससे  अपने ग्राहकों को उनके दीर्घोपयोगिता के लक्ष्यों में सक्षम बनाता है।
  • सतत विकास का समर्थन करने के लिए ईआईएल अपने महत्‍वपूर्ण ग्राहकों, आपूर्तिकर्ताओं, ठेकेदारों और समुदाय के साथ साझेदारी को बढ़ावा देना है। 
  • व्‍यक्तिगत स्‍तर पर और समुदाय स्तर पर दीर्घोपयोगिता की पहल के लिए उच्‍च योग्‍यता प्राप्‍त कार्यदल का संपोषण करना और प्रशिक्षण देना।
  • पर्यावरण अनुकूल प्रौद्योगिकियां और कार्य पद्धतियों का विकसित करना और लागू करना। 
  • नैतिकता की स्‍थापित संहिता, पारदर्शिता और वैज्ञानिक रूप से विकसित जोखिम प्रबंधन प्रणाली पर आधारित सुदृढ़ कार्पोरेट शासन नीतियों का अनुपालन करना। 

हमारी परियोजना डिजाइन संकल्‍पना चरण से आरंभ होकर संयंत्र की कमीशनिंग होने तथा उसके बाद भी वाणिज्यिक प्रचालन के समय तक संपोषिता समर्थित होते हैं। ऊर्जा कुशलता, संसाधन इष्‍टतमीकरण और बड़े पैमाने पर समाज तथा संयंत्र कार्मिकों की सुरक्षा हमारे कारोबार प्रचालनों की आधारशिला है तथा हम कारोबार निरंतरता को भी सुनिश्चित करते हैं।  

अनुसंधान एवं विकास की पहल का उन सेवार्थियों को प्रौद्योगिकियां प्रस्‍तावित करने पर ध्‍यान केंद्रित है जो  कार्बन फूटप्रिंट कम करना और संयंत्र उत्‍पादन में वृद्धि करना चाहते हैं। इन प्रौद्योगिकी पहल में कोयला गैसीकरण, कोयले से द्रव्‍य, प्राकृतिक गैस और डीएचडीटी से CO2 निष्‍कासन करना शामिल हैं।

ईआईएल सुदृढ कार्पोरेट शासन कार्यप्रणालियों में दृढ़ता से विश्‍वास रखता है और सतत् रूप से अपनाता है। अपने व्यापार के प्रचालन में पारदर्शिता, व्यावसायिकता और जवाबदेही अपनाने से हमारे स्‍टेकधारकों में विश्‍वास स्‍थापित होता है और यह हमारे विकास के लिए एक पूर्व शर्त है। जोखिम प्रबंधन नीति और उसके समर्थित रूपरेखा जोखिम की पूर्व में ही पहचान और आकलन करने में सहायता करता है जिससे उचित नियंत्रण और कम करने के उपायों के माध्यम से समय पर हस्तक्षेप किया जा सकता है। 

ईआईएल अपनी कॉर्पोरेट एचएसई कार्यप्रणालियों में उच्चतम मानकों का अनुपालन करने के लिए बिना शर्त प्रतिबद्ध है। निर्माण स्थलों पर क्षति रहित और दुर्घटनारहित श्रमघंटे  के कार्य करना एक महत्‍वपूर्ण बात है। ईआईएल द्वारा अपने कर्मचारियों को प्रदान की जाने वाली मूलभूत सुविधाएं और कार्य करने का माहौल उनके व्‍यावसायिक और भावनात्मक विकास को बढ़ाने के लिए स्‍वस्‍थ कार्य ऊर्जा बनाए रखती है।

ईआईएल मानव केंद्रित संगठन होने के कारण अपने लोगों के माध्यम से उत्‍कृष्‍ठ सेवाएं प्रदान करता है। अपने प्रतिभाशाली समूह का समग्र कल्याण ही इसकी सर्वोच्च प्राथमिकता बनी हुई है। पुरस्‍कार एवं मान्‍यता योजनाएं, पारदर्शी निष्‍पादन प्रबंधन प्रणाली,  विश्‍वसनीय परामर्श, डोमेन विशिष्ट तकनीकी कार्यक्रमों और प्रबंधन विकास कार्यक्रमों के रूप में विभिन्न मानव संसाधन पहल के माध्यम से, योग्यता और प्रतिबद्धता में वृद्धि करते हुए अपनी मानव संपत्ति की क्षमताओं को बढ़ाने के लिए सतत् प्रयत्‍नशील है।

कंपनी निर्माण स्‍थलों पर लम्‍बे समय के लिए उपलब्‍ध विभिन्‍न रोजगार अवसरों का लाभ उठाने के लिए अपेक्षित कौशल निर्धारण के साथ उन्‍हें तैयार करने और संयंत्र निर्माण के दौरान उनके योगदान के लिए स्‍थानीय समुदाय में से दस्‍तकार बनाने के लिए निर्माण स्‍थलों पर विभिन्‍न कार्यक्रम आयोजनों के माध्‍यम से सामाजिक प्रतिबद्धता बढ़ाने के लिए सतत् रूप से प्रयासरत है। ईआईएल का व्यापार प्रचालन भागीदारों के रूप में स्थानीय निर्माताओं और आपूर्तिकर्ताओं के विकास को बढ़ावा देता है। 

समय की मांग के अनुसार, ईआईएल ने दीर्घावधि संपोषित विकास हासिल करने के लिए अपनी इंजीनियरी सिद्धांत और व्‍यापार मॉडल पर पुन: ध्‍यान केंद्रित किया है। इसके अलावा, ईआईएल ने आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय पहलुओं की तिहरी आधाररेखाओं पर अपने निष्‍पादन का मूल्यांकन और रिपोर्टिंग करनी आरंभ की है।  ईआईएल में जारी संपोषिता की पहल से संगठन के उर्ध्‍वगामी विकास पथ को और प्रे‍रणा मिलेगी। 

External site alert

This link shall take you to a webpage outside https://engineersindia.com/hindi. For any query regarding the contents of the linked page, please contact the webmaster of the concerned website.