A-AA+
A-AA+
Select Page

नई दिल्ली, 1 सितंबर, 2021: श्रीमती वर्तिका शुक्ला ने 1 सितंबर, 2021 से इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड (ईआईएल) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभाल लिया है। श्रीमती वर्तिका शुक्ला को कंपनी की पहली महिला अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक होने का गौरव प्राप्त हुआ  है।

प्रतिष्ठित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर से केमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक श्रीमती शुक्ला वर्ष 1988 में ईआईएल में शामिल हुई थीं और आपको रिफाइनिंग, गैस प्रसंस्‍करण, पेट्रोरसायन, उर्वरक आदि में परिसरों के डिजाइन, इंजीनियरिंग और कार्यान्वयन सहित व्यापक परामर्शी  अनुभव प्राप्‍त हैं। आपने भारत और विदेश दोनों में तेल एवं गैस और पेट्रोरसायन उद्योग में सेवार्थियों के लिए कई प्रतिष्ठित परियोजनाओं को सफलतापूर्वक पूरा करने में नेतृत्‍व प्रदान किया है।

देश की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए वैकल्पिक ईंधन स्रोतों को प्रभावी रूप से प्रयोग करने के लिए भारत सरकार के भरसक प्रयास के क्रम में,  श्रीमती शुक्ला जैव ईंधन, कोयला गैसीकरण, अपशिष्ट से ईंधन, हाइड्रोजन ऊर्जा आदि जैसे नए ऊर्जा क्षेत्रों में कंपनी की पहलों का नेतृत्व करती रही हैं। इन पहलों से न केवल देश के बुनियादी ऊर्जा ढांचे को मजबूती मिलेगी बल्कि संपोषणता मिशन को भी बढ़ावा मिलेगा।

अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यभार संभालने के अपने विज़न पर प्रकाश डालते हुए श्रीमती शुक्ला ने कहा कि निसन्देह  घरेलू हाइड्रोकार्बन क्षेत्र में ईआईएल की अग्रणी भूमिका अद्वितीय है, फिर भी कंपनी उच्च संभावित भौगोलिक योजना और कार्यनीतिक गठबंधन बनाकर अपनी अंतरराष्ट्रीय छवि को और मजबूत करने का प्रयास करेगी। उन्होंने यह भी कहा कि, “हमें अपने प्रचालनों में उत्तम सेवाओं और नवाचार के माध्यम से सेवार्थियों की प्रसन्नता लाने के एक नए युग की शुरुआत करने का प्रयास करना चाहिए।”

श्रीमती वर्तिका शुक्ला का उत्‍कृष्‍ट करियर कई प्रतिष्ठित सम्मानों से सुशोभित है, जैसे पहला पेट्रोफेड महिला कार्यपालक पुरस्‍कार, स्कोप उत्‍कृष्‍टता पुरस्‍कार और अपनी टीम के साथ पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय नवाचार पुरस्‍कार।

श्रीमती वर्तिका शुक्ला ने 1 सितंबर, 2021 से इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड (ईआईएल) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभाल लिया है। श्रीमती वर्तिका शुक्ला को कंपनी की पहली महिला अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक होने का गौरव प्राप्त हुआ है।
प्रतिष्ठित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर से केमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक श्रीमती शुक्ला वर्ष 1988 में ईआईएल में शामिल हुई थीं और आपको रिफाइनिंग, गैस प्रसंस्‍करण, पेट्रोरसायन, उर्वरक आदि में परिसरों के डिजाइन, इंजीनियरिंग और कार्यान्वयन सहित व्यापक परामर्शी अनुभव प्राप्‍त हैं। आपने भारत और विदेश दोनों में तेल एवं गैस और पेट्रोरसायन उद्योग में सेवार्थियों के लिए कई प्रतिष्ठित परियोजनाओं को सफलतापूर्वक पूरा करने में नेतृत्‍व प्रदान किया है।
देश की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए वैकल्पिक ईंधन स्रोतों को प्रभावी रूप से प्रयोग करने के लिए भारत सरकार के भरसक प्रयास के क्रम में, श्रीमती शुक्ला जैव ईंधन, कोयला गैसीकरण, अपशिष्ट से ईंधन, हाइड्रोजन ऊर्जा आदि जैसे नए ऊर्जा क्षेत्रों में कंपनी की पहलों का नेतृत्व करती रही हैं। इन पहलों से न केवल देश के बुनियादी ऊर्जा ढांचे को मजबूती मिलेगी बल्कि संपोषणता मिशन को भी बढ़ावा मिलेगा।

अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यभार संभालने के अपने विज़न पर प्रकाश डालते हुए श्रीमती शुक्ला ने कहा कि निसन्देह घरेलू हाइड्रोकार्बन क्षेत्र में ईआईएल की अग्रणी भूमिका अद्वितीय है, फिर भी कंपनी उच्च संभावित भौगोलिक योजना और कार्यनीतिक गठबंधन बनाकर अपनी अंतरराष्ट्रीय छवि को और मजबूत करने का प्रयास करेगी। उन्होंने यह भी कहा कि, “हमें अपने प्रचालनों में उत्तम सेवाओं और नवाचार के माध्यम से सेवार्थियों की प्रसन्नता लाने के एक नए युग की शुरुआत करने का प्रयास करना चाहिए।”
श्रीमती वर्तिका शुक्ला का उत्‍कृष्‍ट करियर कई प्रतिष्ठित सम्मानों से सुशोभित है, जैसे पहला पेट्रोफेड महिला कार्यपालक पुरस्‍कार, स्कोप उत्‍कृष्‍टता पुरस्‍कार और अपनी टीम के साथ पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय नवाचार पुरस्‍कार।

External site alert

This link shall take you to a webpage outside https://engineersindia.com/hindi. For any query regarding the contents of the linked page, please contact the webmaster of the concerned website.