A-AA+
A-AA+
Select Page

प्रोफाइल

अवलोकन

इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड एक अग्रणी, वैश्विक इंजीनियर्स, परामर्शी एवं अभियांत्रिकी, अधिप्राप्ति एवं निर्माण के क्षेत्र में प्रमुख संगठन है। 1965 में सत्यापित यह संगठन अभियांत्रिकीय परामर्श और इंजीनियरी अधिप्राप्ति एवं निर्माण सेवाएं मुख्यतः तेल एवं गैस और पेट्रोकेमिकल उद्योग हेतु उपलब्ध कराता है।

कंपनी में आधारभूतभूत संरचना, जल एवं कचरा प्रबंधन, सौर एवं नाभिकीय ऊर्जा तथा रसायन के क्षेत्र में अपने समृद्ध तकनीकी क्षमताओं एवं ट्रैक रिकार्ड के बल पर अपने कार्य को विविधता प्रदान की है। आज ईआईएल एक ‘सम्पूर्ण समाधान’ उपलब्ध कराने वाला संगठन है जो डिजाइन, इंजीनियरिंग, अधिप्राप्ति, निर्माण, परियोजना संकल्पना(कन्‍सेप्‍ट) से कमीशनिंग तक एकीकृत उच्च गुणवत्ता रख सुरक्षा मानकों के साथ प्रबंधन सेवा उपलब्ध कराता है। ईआईएल की क्यूएमएस, क्यूएचएमएस और ईएमएस सेवाएं क्रमशः आईएसओ 9001, ओएचएसएएस 18001 एवं आईएसओ 14001 से प्रमाणित है। संगठन ताप एवं द्रव्य अंतरण से संबंधित डिजाइन पर्यावरण इंजीनियरी विशिष्ट सामग्री रख रखरखाव तथा संयंत्र प्रचालन एवं सुरक्षा में भी सेवा उपलब्ध कराता है।

दिल्ली में मुख्य व्यावसायिक (कार्पोरेट) कार्यालय के साथ-साथ ईआईएल अपना व्यवसाय गुड़गाव स्थित कार्यालय, मुम्बई में शाखा कार्यालय, कोलकत्ता, चेन्नई एवं वड़ोदरा में स्थित 03 क्षेत्रीय कार्यालयों के माध्यम से संचालित करता है। विदेशों में कम्पनी को उपस्थिति की पहचान आबू-घाबी स्थित कार्यालय से है जो संयुक्त अरब अमीरात एवं मध्य पूर्वी क्षेत्र की व्यावसायिक आवश्यकतों की पूर्ति करता है। उपयुक्त अतिरिक्त लंदन, मिलान एवं शंघाई में भी कार्यालय स्थापित है जो अन्तराष्ट्रीय अधिप्राप्ति एवं कार्यान्वयन सम्बन्धित गतिविधियों में समन्वय स्थापित करते हैं।

ईआईआई की तकनीकी उत्कृष्टता 31 मार्च,2018 तक कार्यरत 2827 कर्मचारियों में से 2339 इंजीनियर और व्यवसायिक (प्रोफेशनल) कर्मियों की वजह से है। तकनीकी मानव संसाधन की उपलब्धता डिजाइन आफिस में लगभग 46 लाख मानव घण्टे प्रति वर्ष तथा निर्माण एवं प्रबन्धन सेवा के क्षेत्र में लगभग 11.9 लाख मानव घण्टा प्रति वर्ष है।

सहायक एवं संयुक्त उपक्रम

सर्टिफिकेशन इंजीनियर्स इंटरनेश्नल लिमिटेड ईआईएल की पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी है जो प्रमाणन, पुनः प्रमाणन एवं तृतीय पक्ष निरीक्षण के क्षेत्र में सेवा प्रदान करती है।

ईआईएल ने रामागुंडम उर्वरक संयन्त्र के पुर्नजीवीकरण के लिए नेशनल फर्टिलाइजर लिमिटेड एवं फर्टिलाइजर कॉरपोरेशन आफ इंडिया लिमिटेड के साथ रामागुंडम फर्टिलाइजर एवं केमिकल्स लिमिटेड की स्थापना संयुक्त उपक्रम के रूप में की है।

अनुसधान एवं विकास

ईआईएल एक प्रौद्योगिकी आधारित संगठन है जो यह विश्वास करता है कि प्रौद्योगिकी में निवेश करना अपना अग्रणी स्थान बनाये रखने हेतु अनिवार्य है। संगठन ने गुड़गांव में एक समर्पित अनुसंधान एवं विकास केन्द्र की स्थापना की है। अनुसंधान एवं विकास प्रभाग स्वयं एवं अन्य संगठनों यथा आईओसीएल-आरएंडडी, बीपीसीएल-आरएंडडी, आइआईपी,सीएचटी, एचपीसीएल, एनआरएल आदि के सहयोग से प्रौद्योगिकियों विकास का कार्य कर रहा है।

ईआईएल ने 30 से ज्यादा प्रोसेस प्रौद्योगिकी का विकास किया है। इसके पोर्टफोलियो में पेट्रोलियम शोधन, तेल एवं गैस प्रोसेस और एरोमैटिक्स के लिये प्रौद्योगिकी सम्मिलित है। आईओसीएल-आरएंडडी तथा ईआईएल द्वारा स‍म्मिलित रूप से डीएचडीटी तकनीक का विकास करके देश ने पहली बार आईओसीएल की बोंगाईगांव रिफाइनरी में उपयोग में लाया गया है। वर्तमान में ईआईएल के पास 25 पेटेन्ट हैं और विभिन्न प्रोसेस तकनीकों से संबंधित 21 पेटेन्ट लंबित हैं।

भावी परिदृश्य

इंजीनियरिंग परामर्शदाता के रूप में उपयोगिता, इंजीनियरिंग , अधिप्राप्ति एवं निर्माण के क्षेत्र में योग्यता और सफल ट्रैंक रिकार्ड का लाभ उठाते हुए ईआईएल ने आधारभूतभूत संरचना, जल एवं अपशिष्‍ट प्रबंधन, सौर और नाभिकीय ऊर्जा और उर्वरक जैसे अधिक सम्भावना वाले क्षेत्रों में अपना कार्य विविधिकृत किया। विविधिकरण के उत्साहजनक परिणाम प्राप्त हुए और कंपनी ने नेल्‍प-IX के अधीन 02 अन्वेषण ब्लॉक के अतिरिक्त एनपीसीआईएल, गेल डीजेबी, रिलायंस-एडीएजी/एरीवा, चेन्नई नगर महापालिका भवन आपूर्ति एवं सीवरेज बोर्ड आदि क्षेत्रों में विभिन्न परियोजनाएं भी कार्यानिवित की है।

100 नवीन आधारभूतभूत संरचना परियोजनाओं में सम्मिलित दिल्ली जल बोर्ड के यमुना नदी के किनारे इंटरसेप्टर सीवर पाइप डालने का कार्य और रिलांयस एडीएजी/अरेवा की 125 मेगावाट क्षमता की सोलर थर्मल पावर परियोजना जो भारत की सबसे बड़ी पावर परियोजना है, ईआईएल की आधारभूतभूत परियोजनाओं में शामिल है। तेलगांना में रामागुंडम उर्वरक सयंत्र के पुनरूद्धार हेतु नेशनल फर्टिलाइजर लिमिटेड एवं फर्टिलाइजर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के साथ संयुक्त उद्यम हेतु समझौता करने से कम्पनी को उर्वरक के क्षेत्र में नवीन पहल हेतु महत्वपूर्ण प्रेरणा प्राप्त हुई है। इस क्षेत्र में कंपनी को वैश्विक बाजार में भी पर्याप्त सफलता प्राप्त हुई है। वर्तमान में कंपनी द्वारा इण्डोनेशिया, नाइजीरिया एवं बांग्लादेश में 4 बड़ी ऊर्वरक परियोजनाओं की स्थापना हेतु सेवाएं प्रदान की जा रही है।

अंतर्राष्ट्रीय पदचिन्ह

ईआईएल ने अपने मजबूत ट्रैक रिकार्ड का लाभ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने कार्य- कलापो का विस्तार कर उठाया है। कंपनी ने मध्य पूर्व, उत्तरी अफ्रीका एवं दक्षिण पूर्व एशिया जिसमें अल्जीरिया, बहरीन, इराक, कुवैत, कतर, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात आदि सम्मिलित है इन देशों मे कार्य निष्पादित कर ख्याति अर्जित की। इस क्षेत्र की अधिकांश बड़ी तेल एवं गैस कंपनियों यथा सोनाट्रैक, गैस्को, एडको, जेडको, केएनपीसी, बैपको, बानागैस आदि ने अपनी प्रतिष्ठित परियोजनाओं हेतु ईआईएल की सेवाओं का उपयोग किया है। नाइजीरिया ने मैसर्स दंगोते की 200 लाख मीट्रिक टन प्रति वर्ष क्षमता की रिफाइनरी एवं 6,00,000 टन प्रति वर्ष क्षमता के पालीप्रोपीलीन सयंत्र द्वारा पीएमसी सेवाओं के लिए कार्य प्रदान करना कम्पनी के वैश्विक विपणन कार्यनीति के क्रियान्व्रयन में मील का पत्थर है। 1390 लाख डालर मूल्य का यह संविदा कम्पनी द्वारा अब तक प्राप्त सबसे बड़ा एकल कार्य संविदा है। ईआईएल द्वारा ओमान, केन्या, नाइजीरिया, बांग्लादेश एवं इण्डोनेशिया में भी कार्य हासिल करने में सफलता प्राप्त की है।

ईआईएल – एक आदर्श नियोक्ता

गतिशील व्यावसायिक पर्यावरण की चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए ईआईएल ने देश के सबसे अच्छे संस्थानों से मैनेजमेंट प्रशिक्षुओं को लेना शुरू किया है। हम विशिष्ट विकास के रास्ते कर्मचारियों को उच्च स्तर पर जरूरतों और आवश्यकताओं के अनुसार तैयार करते हैं। कंपनी कर्मचारियों की प्रतिबद्धता को प्राथमिकता देती है और संगठनात्मक उद्देश्यों के प्रसार हेतु उनकी क्षमता का बेहतर उपयोग करने के लिए कर्मचारी सापेक्ष प्रोत्साहन योजनाएं भी बनाई गई हैं।

दीर्घोपयोगिता

ईआईएल सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय माँगों के समंजन में विश्वास रखता है जो कि दीर्घोपयोगिता के तीन स्तंभ हैं। ईआईएल में दीर्घोपयोगिता से तात्‍पर्य व्यवसाय को इस तरीके से चलाना जिससे सभी स्टेक होल्डर्स और समाज के समक्ष जिम्मेदार और पारदर्शी नजर आएं।

ईआईएल के सीएसआर प्रोग्राम का उद्देश्य समाज के कमजोर वर्ग को सामाजिक और आर्थिक मदद करना है। साथ ही, ईआईएल को कर्मचारियों, सेवार्थियों, स्थानीय समुदायों और अन्य स्टेक-होल्डरों के लिए सामाजिक रूप से उत्तरदायी व्यवसाय के रूप में सुपरिभाषित करना है। कंपनी के सीएसआर प्रोजेक्ट ने विभिन्न गतिविधियों जैसे- शिक्षा, हेल्थ केयर, पेयजल और सौर ऊर्जा द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के विद्युतिकरण को लक्ष्य बनाया है।

विश्वस्तरीय ईआईएल और समग्र समाधान सम्पन्न संगठन बनने की अपनी कॉर्पोरेट दृष्टि (विजन) से प्रेरित ईआईएल की संपुष्ट कॉर्पोरेट रणनीति निरंतर रूप से अपने कामगारों को उत्कृष्टता देने और दीर्घावधि स्थिरता की वृद्धि हेतु व्यवसाय पोर्टफोलियो बनाने हेतु प्रेरणा देती रहती है।

External site alert

This link shall take you to a webpage outside https://engineersindia.com/hindi. For any query regarding the contents of the linked page, please contact the webmaster of the concerned website.